Posted in Emotions, Fiction, Hindi, Poetry

Ye Rishta !!!

तू भी गलत मैं भी गलत, कौन चलाएगा ये रिश्ता |

तू भी गुस्सा मैं भी गुस्सा, कौन बचाएगा ये रिश्ता ||

तेरी मेरी इस लड़ाई में, कहीं खो जायेगा ये रिश्ता |

फिर जीवन में इस तरह, न मिल पाएगा ये रिश्ता ||

साथ बिताए उस समय को , न लौटाएगा ये रिश्ता |

उन यादों की छांव में, कई रातें जगायेगा ये रिश्ता |

जिंदगी भर इस दिल में , एक कसक रहेगा ये रिश्ता ||

इस मतलब की दुनिया में, बेमतलब खत्म हो जायेगा ये रिश्ता ||

रुक गयी अगर मेरी सांसें यूँही, बहुत रुलाएगा ये रिश्ता |

कोशिश करते है सँवारने की खुद को, शायद संवर जाये ये रिश्ता ||

आ याद करते है उस दिन को, जब पहले हसाया था ये रिश्ता |

आ जाते है फिर उस दिन में, जब यादें बनाया था ये रिश्ता ||

आ छोड़ते है अपने अभिमान को, शायद बच जायेगा ये रिश्ता |

आ जोड़ते है फिर दिल को अपने, वरना आजीवन पछतायेगा ये रिश्ता ||

Advertisements

Author:

Not organized, But you will not find it messy. Not punctual, But will be there at right Time. Not supportive, But will be there, when needed. Not a writer, But you will find this interesting.

12 thoughts on “Ye Rishta !!!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s