Posted in Hindi, Poetry

Salary…Mera Pyar

तू ही अंत है और शुरुआत भी |

चाहता हूँ हमेशा तेरा साथ भी ||

हर महीने पास मेरे तू आता है |

कुछ ही दिनों में फिर खो जाता है ||

 

तेरे बिना ये जिंदगी मुश्किल है |

तू मेरी जान तू ही मेरा दिल है ||

चाहता हूँ तू दिन दुगुना बढ़ जाये ||

मेरा साथ कई दिनों तक निभाए |

 

तेरी और मेरी तरक्की में कुछ दिवार है |

मैनेजर के पास बहाने आपार है ||

जब भी तुझे बढ़ाने के लिए लड़ता हूँ |

कहता है कुछ देर बाद बात करता हूँ ||

 

दिल में मेरे तेरी इज़्ज़त और तेरा प्यार है |

ना आये तू तो, ये इंजीनियर भी बेरोज़गार है ||

तू यूँ पहली तारीख तक न तड़पाया कर |

मेरे पास तू हर सोमवार आ जाया कर ||

Advertisements

Author:

Not organized, But you will not find it messy. Not punctual, But will be there at right Time. Not supportive, But will be there, when needed. Not a writer, But you will find this interesting.

17 thoughts on “Salary…Mera Pyar

        1. Hahaha arey kuch minutes ki khush hai bas 😉 baki to mpure month lagi padi rahti h :p …..ar kuch month baad its like routine ……phir to salary dekh k bas credit card ka bill yaad aata h 😀 :p

          Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s