Posted in Emotions, Hindi, Poetry

आशियाना…

तिनकों का मेरा आशियाना था

एक बाज़ का उस पर निशाना था |

बचा रही थी जिन मासूमो को उसकी नज़र से

उसके लिए एक वक़्त का खाना था ||

 

इनकी जुदाई मैं न सह पायूँगी

इनके लिए मैं बाज़ से लड़ जाऊंगी |

जीत हार तो मेरे वश में नही पर

जीतूंगी या लड़ते-लड़ते खुद ही मर जाऊंगी ||

 

तभी मौसम का बदला मिज़ाज़

हुआ भयंकर तूफान का आगाज़

देख यूँ खराब होता मौसम

भागा वहां से शिकारी बाज़

 

फिर आँखों के सामने कुछ चमक सी हुई

बादलो की भयंकर धमक सी हुई |

गिर गयी बिजली उजड़ गया मेरा शामियाना

ना रहे बच्चे ना मेरा आशियाना ||

 

उनकी याद में फिर नया आशियाना बनाया

कुदरत ने भी फिर वहीँ कहर बरपाया |

जिद्द था उसे जो वहीँ बिजलियाँ गिराने का

शौक था मुझे भी वहीँ आशियाना बसाने का ||

 

Advertisements

Author:

Not organized, But you will not find it messy. Not punctual, But will be there at right Time. Not supportive, But will be there, when needed. Not a writer, But you will find this interesting.

29 thoughts on “आशियाना…

  1. OMG!! Sabse pehle, this is a Hindi poem, I love hindi poems sooo much, and this is one of the masterpieces! 🙌

    The pain of separation, it stirred a lot of emotions, this touched me deeply. And the last four lines, they are so magical. This is impeccable! Truly, this couldn’t have been better. 😇😇👍

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s