Posted in Hindi, Love, Poetry, Sad

एहसान !!

इंतज़ार है तेरी एक झलक का |
जानता हूं तेरे पास काम बहुत है ||

व्यस्त है तू अपने चाहने वालो में |
माना की जग मे तेरा नाम बहुत है ||

तो क्या जो टूट रहा कोई इंतज़ार में |
तेरे लिये ये भी आम बहुत है ||

बिता ले कुछ वक़्त हमारे साथ भी |
दिल में हमारे भी अरमान बहुत है ||

रूबरू है तू मेरे इस सफर से
फिर भी तू अनजान बहुत है

हो सके ये आखिरी सफर हो मेरा |
क्योंकि रास्ते में मेरे तूफान बहुत है ||

बिखेर दे अपनी हँसी की चमक |
राहें मेरी सुनसान बहुत है ||

भूल न पायूँगा तुझे मर कर भी |
मुझ पर तेरे एहसान बहुत है ||

Advertisements

Author:

Not organized, But you will not find it messy. Not punctual, But will be there at right Time. Not supportive, But will be there, when needed. Not a writer, But you will find this interesting.

44 thoughts on “एहसान !!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s