Posted in Hindi, Love, Poetry, Sad

मर्ज़ !!

गवाह थी जो कुछ हसीन पलो की |
तो कुछ पल ये मेरा हमदर्द था ||

गरमाहट थी फिज़ाओ में, तेरी यादों से |
तो टूटे सपने से मौसम थोड़ा सर्द था ||

ख़ूबसूरती समेटे था जो कल तक मोहब्बत की |
वही जमाना आज कितना बेदर्द था ||

आगे बढ़ गयी तू समझदार बन कर |
हमें नही, सिर्फ मुझे ही मोहब्बत का मर्ज़ था ||

खाते रहे दोनों कई कसमे साथ में |
क्या उन्हें निभाना केवल मेरा ही फ़र्ज़ था ?

Advertisements

Author:

Not organized, But you will not find it messy. Not punctual, But will be there at right Time. Not supportive, But will be there, when needed. Not a writer, But you will find this interesting.

34 thoughts on “मर्ज़ !!

      1. आपने भुले बिसरे प्यार कि याद दिलायी है अब कुछ ना कुछ तो जरुर आवाज आयेगी दिल से…कविता coming soon….:)

        Liked by 1 person

  1. बहुत खूब लिखे जज्बात दिल को उकेर के रख दिया।जो छुपी थी कहीं मोहबत दिल में उसको शायरी में ही कह दिया।

    Liked by 1 person

  2. आगे बढ़ गयी तू समझदार बन कर |
    हमें नही, सिर्फ मुझे ही मोहब्बत का मर्ज़ था ||
    .
    .
    वाह. . . मजा आ गया 😊😘

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s