Posted in Hindi, Love, Poetry

बे-नाम

यूँही फिर खुद को परेशान कर लिया |
तेरे ख्यालो में सुबह से शाम कर लिया ||

न जाने क्यों चाहने लगा था तुझे इतना |
की खुद को ही मैंने बे-नाम कर लिया ||

थक गया था तुझे बुला बुला कर |
बुलाना छोड़ कर थोड़ा आराम कर लिया ||

उठाएगा न कोई भी ऊँगली अब तुझ पर |
सारी बेवफाई जो मैंने अपने नाम कर लिया ||

Advertisements

Author:

Not organized, But you will not find it messy. Not punctual, But will be there at right Time. Not supportive, But will be there, when needed. Not a writer, But you will find this interesting.

48 thoughts on “बे-नाम

  1. ये जो बेवफाई आपने अपने नाम कर ली है….लगे है जैसे प्यार कि गेहराई आपने नाप ली है….गेहराई आपने नाप ली है….

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s