Posted in Hindi, Love, Poetry

इंतज़ार

न बदला कुछ भी यहाँ |
पर मौसम कुछ बेकरार सा है ||

तेरे चेहरे की चमक न रही अब यहाँ |
और मेरा सुकून भी कहीं फरार सा है ||

बदल दिया तूने घर का पता |
पर तेरी गलियों से आज भी प्यार सा है ||

पता है तू न लौटेगी कभी |
पर आँखों को तेरा इंतज़ार सा है ||

यूँ तो मिलता हूँ सबसे मुस्कुरा कर |
पर ये कमबख़्त दिल अब बीमार सा है ||

Advertisements

Author:

Not organized, But you will not find it messy. Not punctual, But will be there at right Time. Not supportive, But will be there, when needed. Not a writer, But you will find this interesting.

38 thoughts on “इंतज़ार

  1. Awesome.kisi nazar ko tera intezaar aaj bhi he……..zindgi ke safar me guzar jaatein hein jo mukaam vo phir nahi aate…….aapki poem na jaane kitne geet yaad dila deti he aur na jaane kitne manjar nighaahon me tair jaate he ashqon ki manind……khoobsoorat si kavita ke liye shukriya.

    Liked by 1 person

  2. आपके कविता पर कुछ अर्ज करती हूँ कहीं का पढा है याद आ गया बस थोड़ा सा शब्दों का हेर फेर है। इंतजार है तो इजहार होना चाहिए। आप को तो चेहरे से विचार नहीं अखबार होना चाहिए। क्यों रोहित कैसा लगा विचारों का खेल शब्दों से।

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s