Posted in Hindi, Poetry, Religious, story

चीर हरण !!

वर्षो पहले की ये कहानी थी,
सुनी अपनी दादी की जुबानी थी |
हस्तिनापुर का सिंहासन था,
एक अँधा राजा और एक अंधी रानी थी ||

दो पक्षों की ये दुश्मनी पुरानी थी,
दांव पर राजपाठ, रिश्ते और पंचाली थी |
जीत गए सब कौरव,और पांच की नाकामी थी,
पासे के खेल में, मामा की बेईमानी थी ||

इंतकाम की आग थी मन में ,
मायामहल की बेइज़्ज़ती चुकानी थी |
घसीटी गयी रानी सरेआम बाल से,
इस अन्याय पे बंद सबकी वाणी थी ||

पांचाली के हश्र पर, गर्व था कुछ को,
बाकि सबकी आँखे शर्म से झुक जानी थी |
उतार के उनके वस्त्र को सभा में,
कईयों को दिखानी अपनी मर्दानी थी ||

खींच रहा था दुःशासन साड़ी उनकी,
चीख पुकार मचा रही पांचाली थी |
न था कोई भी रोकने वाला अन्याय को,
पूरी सभा के जीवन पर, ये एक बदनामी थी ||

ना उठ रहा था कोई बचाने को ,
पर द्रोपदी को खुद की इज़्ज़त बचानी थी |
देख खुद को बेबस कौरवो के सामने,
बस भगवान से ही पुकार लगनी थी ||

चीर खींच रहा था दुःशासन बेरहमों की तरह,
हे गोविन्द! हे मुरारे! हे कृष्ण, बस यही द्रौपदी की वाणी थी |
थे खुद गोविन्द ऊपर, उन्हें भक्त की लाज बचानी थी,
चमत्कार था उनका, साड़ी बढती जानी थी ||

हर रहा था चीर, सब कौरवो की मनमानी थी,
मौन धृतराष्ट्र, भीष्म, द्रोणाचार्य और गांधारी थी |
बढ़ती गयी साडी और खींचता रहा चीर,
कृपा के पीछे, स्वंय सुदर्शनधारी थे |

सभा में साडी का ढेर लग गया था,
एक अबला नारी को निवस्त्र करने वाला |
मर्द अब चीर खींच-खींच के थक गया था,
देख ये अद्द्भुत दृश्य, कहा कवि ने ||

“अंतहीन है ये साड़ी थी,
बची इज़्ज़त जो प्यारी थी |
सभा में हर ओर बस साड़ी थी
क्या वो साड़ी थी, या फिर रानी थी ||
क्या वो रानी की ही साड़ी थी ,
देख ये चकित सभा सारी थी |
भाई मानी जिसे रानी थी ,
चमत्कारी वो सुदर्शनधारी था ||”

देख खुद हो हारता दुर्योधन ने मुँह खोला,
“महारानी बना के रखूँगा तुझे मैं दासी” |
ये बोल खुद की जंघा पर बैठने को बोला,
सुन ये गदाधारी भीम का खून खौला ||

ऐसे ही हुआ “महाभारत” का आगाज़,
हर एक घर में जो फैला हुआ है आज |
माना की युद्ध नहीं उस जैसा
पर हर एक के मन वही बैर का अंदाज़ ||

Please do share your opinion on this post, which will help me to decide either i have to write more similar type posts or not.

Thank you so much for your time and support 🙂 

 

Advertisements

Author:

Not organized, But you will not find it messy. Not punctual, But will be there at right Time. Not supportive, But will be there, when needed. Not a writer, But you will find this interesting.

59 thoughts on “चीर हरण !!

  1. क्या कहे लाजवाब लिखा है।
    नारी है कि साड़ी है,
    की साड़ी बीच नारी है,
    के माध्यम से दुनिया को बहुत ही सुंदर संदेश देने में आप एक दम कामयाब हुए हैं।लाजवाब है।

    Liked by 1 person

    1. Ohhh is it 😧 i feel ur words more powerful to motivate me 😍 waise aapka andaz b poem k sath badla hua lag raha 😉 thank u so much dear 😇 its always nice to get comment from u 😇

      Like

    1. Not Just comments , not just appreciation….But its encouragement, motivation and feeling for me 🙂
      i am speechless 😉
      thank you so much for your kind word ❤

      Thanks again 🙂

      Like

  2. Yayy. Hi Rohit. While reading this poem, a picture of the ancient kings and queens came into my mind, jaise wo tv serials me dikhate haina. 😃 Beautifully written. I would like to read more poems like this. Keep writing. ☺👦

    Liked by 1 person

    1. Hey Chandani 👻 i always get excited when i get comment from u ….coz i knw it will surprise me 😍😍😍
      Yup maine b wo serials hi imagine kar k likha hai 🙊🙊 thank u so much 😍 kya sach me ar aisa likhu ?? 😧😧

      Liked by 1 person

      1. Hahah! Yayyy! 🙆 Such a sweet compliment huh, mere comments me kya surprising hai aisa! 😂😂 And yess, aise kitne saare historical wale shows aate na TV me, wahin se dekhke thodi inspiration lekar likh lo. 👦 Achha likh rahe ho. 💙☺

        Liked by 1 person

        1. Hahaha ! Ab kya surprising hai ye hi pata chal jaye to surprise kaisa 😉😉😉 hahahahaha likhne k liye to aaplogo k motivation and comments b bht inspiring hai 😍 but yup i ll try more 🙂🙂 and thanks again 😍

          Liked by 1 person

  3. Mahabharat has always inspired thought provoking writing. This is one book most of us can relate to as the characters are very human. No one is perfect.

    Good attempt. Yet it could be chiselled further.
    Your blog has been beautifully designed. It was a pleasure visiting it.
    Looking forward to more.
    Namaste.

    Liked by 1 person

    1. Thank u so much for your kind and motivating words 🙂
      yup very true , in Mahabharata characters are so human , thanks for your time
      Give a try to other posts , hope u will like them too 🙂

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s