Posted in Emotions, Feellings, Hindi, Personal, Poetry, social

मैं कवि हूँ !!!

ख़ुशी, दुःख, हँसी और आंसू
सबकुछ एक साथ लिखता हूँ
मुस्कान की चमक को दिन
जुल्फ के अंधेरो को रात लिखता हूँ
मैं कवि हूँ
लोगो के जज़्बात लिखता हूँ

शर्म से आँख झुकाना हो
कुछ कहने से घबराना हो
पहली नज़र, पहली मुस्कान से लेकर
हर एक मुलाकात लिखता हूँ
मैं कवि हूँ
मन की बात लिखता हूँ

मिलन का प्रेम हो
या विरह की पीड़ा
दिल धड़कना, घबराना
सब एक साथ लिखता हूँ
मैं कवि हूँ
इश्क़ के अल्फ़ाज़ लिखता हूँ

धर्म, समाज या राजनीति हो
तेज़ाब, दुष्कर्म, दहेज़ से
बेबस हमारे देश की बेटी हो
सब पर अपने ख्यालात लिखता हूँ
मैं कवि हूँ
कमज़ोर, बेबस की आवाज़ लिखता हूँ

लोगो की बेड़ियाँ तोड़ कर
विचार अपने आज़ाद लिखता हूँ
कल क्या हुआ, ना पता
क्या क्या होगा, क्या पता
मैं कवि हूँ
मैं बस और बस आज लिखता हूँ

Advertisements

Author:

Not organized, But you will not find it messy. Not punctual, But will be there at right Time. Not supportive, But will be there, when needed. Not a writer, But you will find this interesting.

44 thoughts on “मैं कवि हूँ !!!

  1. बहुत खूब। रोहित जी आपने बहुत ही अच्छा लिखा है। ऊपर जो हिंदी कविता है वो लिंक दिया है क्या? मुझे नहीं पता था कि कोशिश करने वाले की कभी हार नहीं होती हरिवंश राय बच्चन की कविता है मैंने कहीं पढ़ा होगा तभी ये लाइनें मेरे दिमाग में था। सो मैंने उसी अधार पर मेरी कविता बन गया है।

    Liked by 1 person

  2. You are a writer. And you are an amazing writer. It is said that writers don’t have to prove themselves. Hell no! They have to stand on social, ethical and emotional needs. They have to prove that what all can’t do, they can.
    I love the poem. Relatable much… And the pic is pretty awesome. I wish to read this diary someday😛😜
    Keep going sir… Best wishes😊😊

    Liked by 2 people

    1. Thank you so much Sandali ☺️ i do agree with your comments 😇 a writer is someone who can convey feeling to everyone with his/her words 😇

      I cant express my feeling in words here , your comment made my day 😍

      This is not good to read someone’s diary 🙊😉

      Thank u so much

      Liked by 2 people

  3. “Jin kamzoriyon se sab muh modte hai,
    Aap unhe kagaz ke panne pe likhte hai,
    Aap kehte hai ki Aap Sirf kavi hai,
    Mujhe to aap kalakar lagte hai. ”

    I am not a poet or a writer! So I feel too small to comment on this masterpiece! For all that I know, forming a poem is just not knowledge and brain! It takes a lot of heart and soul! Keep writing! Hats off! 😊

    Liked by 1 person

  4. बहुत खूब भाई. मज़ा आ गया. एक कवि की छवि इतने सरल शब्दों में बयान कर दी है आपने.

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s