Posted in Fiction, Hindi, Poetry, social

लुक्का-छिप्पी !!

खेल है जिंदगी ।
लुक्का छिप्पी का ।।

कई दर्द छिपे है,
मुस्कान के पीछे ।
किस्से छिपे है,
हर एक नाम के पीछे ।।

ख्वाहिशें छिपी है,
ईनाम के पीछे ।
जज्बात छिपे है,
हर जाम के पीछे ।।

खेल है जिंदगी ।
आँख मिचोली का ।।

मजबूरियाँ छिपी है,
हर काम के पीछे ।
स्वार्थ छिपा है,
हर सलाम के पीछे ।।

लालच छिपा है,
ईमान के पीछे ।
कई चेहरे छिपे है,
हर इंसान के पीछे ।।

खेल है जिंदगी ।
लुक्का छिप्पी का ।।

Advertisements

Author:

Not organized, But you will not find it messy. Not punctual, But will be there at right Time. Not supportive, But will be there, when needed. Not a writer, But you will find this interesting.

26 thoughts on “लुक्का-छिप्पी !!

  1. Really less are the writers who have the capability of touching your nerves directly… Apki poems padh k dimag khul jaata hy…
    I am falling short of words now.. because this is definitely above the banal compliments like fantastic, awesome and mindblowing…
    Great great job. 😊😊😊

    Liked by 2 people

  2. बहुत ही बारीकी से ज़िन्दगी की लुक्का छिप्पी को उजागर किया है आपने |
    बेहतरीन रचना | मन में आये भाव साझा कर रहा हूँ |

    सब खुश हैं की सब छुपा है ,
    सच मेरा, नहीं किसी को पता है
    पर पीठ पीछे सभी
    एक दूजे के सच ही तौलते हैं
    दूसरों की बुराइयाँ मोलते है
    खुद नीम हैं बखूबी जानते हैं
    पर दूसरों को करेला ही बोलते हैं |

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s