Posted in Feellings, Hindi, Personal, Poetry, social

Ek Sham !!!

मुद्दतो बाद, खुले आसमान में ,
एक हसीं शाम लिए बैठा हूँ |
बेफ़िक्रों के माफ़िक़, तक रहा परिंदो को,
ना कोई सोच, ना कोई काम लिए बैठा हूँ ||

चाहत, अरमान और ख्वाहिशों को छोड़ कर,
ना कोई दुआ, ना कोई सलाम लिए बैठा हूँ |
आज़ाद कर खुद को, फ़िक्रों से आज,
ना कोई दर्द, ना कोई इंतकाम लिए बैठा हूँ ||

शून्य कर खुद के दिलो दिमाग को,
खुद को खोजने आज, बिन ज़ाम लिए बैठा हूँ |
एक अरसा बीत गया इसे, उसे और सबको खुश करते,
भूल कर सब, बस अपना ही नाम लिए बैठा हूँ ||

कहने को तो एक शाम है, हर रोज़ जैसा,
पर कुछ पल खुद को इनाम दिए बैठा हूँ |
मुद्दतो बाद, खुले आसमान में ,
एक हसीं शाम लिए बैठा हूँ ||

Author:

Not organized, But you will not find it messy. Not punctual, But will be there at right Time. Not supportive, But will be there, when needed. Not a writer, But you will find this interesting.

4 thoughts on “Ek Sham !!!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s