Posted in Fiction, Hindi, Poetry, social

वक़्त !

अपने पल खुद से चुरा रहा हूँ ,
अँधेरे में बैठ कर मुस्कुरा रहा हूँ ।
कभी फिर आ कर आज़मा लेना ए-वक़्त,
बदला नहीं हूँ, बस खुद को छुपा रहा हूँ ।।

Posted in Emotions, Fiction, Hindi, Poetry, Sad, social

मेरे अल्फ़ाज़ !!!

शांत था मैं झील सा,
ख्वाब टूटते गए
उफान बढ़ता गया ।
पहाड़ था कठनाइयों का,
लोग हँसते गए,
मैं चढ़ता गया ।।

बांध था सब्र का मुझमे,
लोग आज़माते गए,
मैं टूटता गया ।
हुजूम था लोगो का इर्द-गिर्द,
जरुरत पड़ती गयी,
लोग मुकरते गए ।।

उफान था दर्द का अंदर,
मैं लिखता गया,
अल्फ़ाज़ मिलते गए ।
कुछ पूरे, तो कुछ अधूरे रहे,
मैं कहता गया,
कविता बनती गयी ।।

Posted in Emotions, Fiction, Hindi, Poetry, social

सैलाब…मन का

रूह के अपने इल्ज़ामो का,
आज मन में हिसाब चल रहा |
घनघोर सन्नाटो में भी,
मन में सैलाब चल रहा ||

बस सवाल उठ रहे,
ना कोई जवाब चल रहा |
हकीकत चल रही,
ना कोई ख्वाब चल रहा ||

पूछताछ चल रही खुद से,
ना तमाशा, ना कुछ बर्बाद चल रहा |
कुछ विन्नते, कुछ मुखबिरी,
तो कुछ फरियाद चल रहा ||

ना कुछ अच्छा,
ना कुछ खराब चल रहा |
कुछ भी तो नहीं ये,
खुद से खुद का हिसाब चल रहा ||

अपनी जिम्मेदारी, सपने और ख़ुशी,
सबपर सवाल जवाब चल रहा |
घनघोर सन्नाटो में भी,
मन में सैलाब चल रहा ||

Image : Google

Posted in Fiction, Hindi, Poetry, social

लुक्का-छिप्पी !!

खेल है जिंदगी ।
लुक्का छिप्पी का ।।

कई दर्द छिपे है,
मुस्कान के पीछे ।
किस्से छिपे है,
हर एक नाम के पीछे ।।

ख्वाहिशें छिपी है,
ईनाम के पीछे ।
जज्बात छिपे है,
हर जाम के पीछे ।।

खेल है जिंदगी ।
आँख मिचोली का ।।

मजबूरियाँ छिपी है,
हर काम के पीछे ।
स्वार्थ छिपा है,
हर सलाम के पीछे ।।

लालच छिपा है,
ईमान के पीछे ।
कई चेहरे छिपे है,
हर इंसान के पीछे ।।

खेल है जिंदगी ।
लुक्का छिप्पी का ।।

Posted in Fiction, Hindi, Poetry, social

आंसू हूँ मैं !

आंसू हूँ मैं,
आँखों का पानी नहीं हूँ !

ज़ज़्बात हूँ रूह की,
कोई दुखभरी कहानी नहीं हूँ ।
सुकून हूँ दर्द में,
कमज़ोरी की निशानी नहीं हूँ ।।

भावुकता हूँ दिल की,
भूचाल या सुनामी नहीं हूँ ।
ख़ुशी में भी शामिल हूँ,
बस दुःख की दीवानी नहीं हूँ ।।

आंसू हूँ मैं,
बस आँखों का पानी नहीं हूँ !

Image Credit – Google