Posted in Emotions, Hindi, Love, Personal, Poetry

कभी-कभी ।।

यूँ तो खामोश हूँ,
पर कुछ बात उमड़ती है ।
कभी-कभी ।।

सो जाता हूँ अक्सर,
बिन सोये कुछ रात गुजरती है ।
कभी-कभी ।।

पता है तुम्हे,चमक है तुम में ।
जो मेरे आँखों में चमकती है,
कभी-कभी ।।

एक खुशबू है तुम में ।
जो मेरी रूह में महकती है,
कभी-कभी ।।

कुछ बात है तुम में ।
जो मेरी ख़यालात से मिलती है,
कभी-कभी ।।

बंजारन हो तुम ।
जो मेरे मन में भटकती है,
कभी-कभी ।।

दीपक की ज्योति हो तुम ।
जो अँधेरा भगाती है मेरा,
कभी-कभी ।।

परी हो तुम ।
जो मेरे सपनो में उड़ती हो,
कभी-कभी ।।

वैसे तो ज़ज्बात बहुत है ।
पर अब लिखता हूँ बस,
कभी-कभी ।।

Posted in Emotions, Fiction, Hindi, Love, Poetry

गुनाह !!!

हाँ, मैंने चोरी की !!!
पर खुद क लिए नहीं,
उसके लिए की |
जो अपना सबकुछ,
हँस के दुसरो को दे देती है ||
जो सबके हर तकलीफ,
हँस के सुन लेती है |
जो अपने सारे गम,
चुपचाप सह लेती है ||

हाँ, मैंने चोरी की !!!
चुराया मैंने,
अपने जिंदगी से
कुछ लम्हे |
बस उसके लिए ||
उन लम्हो में ,
मैं उसे हँसाऊँगा |
उसे उसकेहोने का,
एहसास दिलायूँगा ||

हाँ, मैंने चोरी की !!!
बस और बस उसके लिए,
और अगर इस गुनाह
की सजा मौत है |
तो जनाब !!!
नहीं डरता मैं मौत से ||

Posted in Fiction, Hindi, Love, Poetry, Sad

अच्छा सुनो !

अच्छा सुनो !
ये जो “Forever” शब्द,
के साथ कार्ड दी थी |
उसे फाड़ दू, जला दू ?
या फिर सारी बातें
past में बना दू ?

अच्छा सुनो !
ये जो तुम कांच की,
dancing couple दी थी |
उन्हें तोड़ दू, कहीं झोक दू ?
या फिर उनको
वही रोक दू ?

अच्छा सुनो !
वो जो फूल बना,
रुमाल छूटा था मेरे पास |
उसे तुम्हे लौटा दू ?
या फिर टूटे वादों के
आंसू उसमे ही बहा दू ?

अच्छा सुनो !
वो जो कविताये,
लिखी थी तुमपर |
उसके हर लफ्ज़ मिटा दू ?
या फिर अब उनसब को
इस ज़माने को दिखा दू ?

Posted in Fiction, Hindi, Love, Poetry

मोहब्बत !!

कैसी है ये मोहब्बत,
जिससे दामन तुम बचा जाते |

बस अपने ही ख्यालो से,
तुम दिनों रात जगा जाते ||

ना बरसा था बादल फिर भी,
तुम सबकुछ यूँ भीगा जाते |

बिन छुवे तुम पर्वत को,
उसकी बर्फ पिघला जाते ||

जो नैन-नक्ष तेरे तीखे थे,
पूरी नदियाँ घुमा जाते |

चुप थे तेरे लब्ब फिर भी,
नैना तेरे सब बता जाते ||

कैसी है ये मोहब्बत,
जिससे दामन तुम बचा जाते |

बस अपने ही ख्यालो से,
तुम दिनों रात जगा जाते ||

Posted in Emotions, Hindi, Love, Poetry, social

परछाईं !!

मेरी एक परछाईं थी ||
जब आया मैं दुनिया में,
मेरे साथ वो आयी थी |
ना ही कोई रूप था उसका,
ना ही कोई रंग लायी थी |
मेरी एक परछाईं थी ||

ना ही कोई गुरुर उसे,
खुद पर ना कभी इतरायी थी |
ना जलती थी धूप में वो,
रात से ना वो घबराई थी |
मेरी एक परछाईं थी ||

ना ही उसके नखरे थे,
ना ही कोई लड़ाई थी |
थी झील सी शांत वो,
समुंद्र सी उसकी गहराई थी |
मेरी एक परछाईं थी ||

मुझमे कुछ भी अच्छा हो,
या फिर कोई बुराई थी |
भूल के सारे तथ्यों को वो,
मेरा साथ निभाई थी |
मेरी एक परछाईं थी ||

Posted in Fiction, Hindi, Love, Poetry

एक हसीना !!

भूखा हूँ तेरे कुछ लफ्ज़ का,
प्यासी है नज़रे तेरी एक झलक को |
बिन तुझे देखे, ना मैं इफ्तार करूँगा ||

माना की तू हसीन, ईद के चाँद सी,
पर एक दफा निकल तू |
खुद की आँखों में, तुझे गिरफ्तार करूँगा ||

बंद कर लूंगा तुझे मैं,
दिल की बोतल में इस कदर |
जब जी चाहे तो, तेरा दीदार करूँगा ||

तू खुद पूछेगी मुझसे,
“ऐसी क्या खूबी है मुझमे” |
इतना टूट कर तुझे मैं प्यार करूँगा ||

Posted in Emotions, Hindi, Love, Poetry, Sad

तड़प !!

तरस गयी हूँ, घूमने के लिए,
बारिश में भीगने के लिए |

एक चाय का प्याला पीने के लिए,
कुछ पल उनके साथ जीने के लिए ||

उनकी आँखो में खोने के लिए,
कंधे पर सिर रख रोने के लिए |

तरस गए हम वक़्त पाने के लिए,
उनके मन के ज़ज्बात जानने के लिए ||

तरस गए है, उनसे प्यार जताने के लिए,
वो मेरे है, इस ख़ुशी पर इतराने के लिए |

प्यार के एहसास महसूस करने के लिए,
छोटी-छोटी बातों पर मोहब्बत से लड़ने के लिए ||

प्यार से उनको कुछ खत लिखने के लिए,
खत पढ़ कर,उनके अल्फ़ाज़ सुनाने के लिए |

पर उनके पास मेरे लिए वक़्त कहाँ है,
खुश है वहीं, वो अब जहाँ है ||

उसके लिए भी तो बादल बरसता होगा,
भीगने के लिए वो भी तरसता होगा ||

उसे भी तो कुछ बताना होगा ना,
शायद मुझसे प्यार जाताना होगा ना |

हकीकत ना सही ये सब,
सपने पुरे ख्वाब में करेंगे|
मिलने दो कभी,
हर एक तड़प हिसाब में करेंगे ||

Idea Credit & Original poem – “RITIKA”.  Modified by – “ROHIT”