Posted in Emotions, Hindi, Personal, Poetry, social, story

दूर तक जाना है !!

कुछ पाया है, कुछ अभी पाना है,
आँखों में ख्वाब है, ख्वाहिशो का ठिकाना है ।
लड़खड़ा जाये कदम तो, डरना नहीं ,
एक सफर है ये, बहुत दूर तक जाना है ।।

हौसलों का साधन है, अरमानो का आशियाना है,
कुछ सीख है, कुछ जिंदगी का अफसाना है ।
रुका हूँ कुछ पल, जिंदगी का लुत्फ़ उठाने को,
थका नहीं हूँ, अभी तो जीतने को जमाना है । ।

Posted in Hindi, Personal, Poetry, story

अलग हूँ थोड़ा !!

अलग हूँ थोड़ा,
हँसता हूँ, मुस्कुराता हूँ ।
झूठ नहीं बोलता,
बस कुछ बातें छुपाता हूँ ।।

मजबूत हूँ वैसे,
कभी कभी कमजोर पड़ जाता हूँ ।
रोता नहीं हूँ,
खामोश हो जाता हूँ ।।

अलग हूँ थोड़ा,
हँसता हूँ, मुस्कुराता हूँ ।
रोशन करने को सारा जहां,
खुद के अरमान जलाता हूँ ।।

निडर हूँ मैं,
कभी कभी सिहर जाता हूँ।
टूटता नहीं कभी,
बस थोड़ा सा बिखर जाता हूँ ।।

अलग हूँ थोड़ा,
हँसता हूँ, मुस्कुराता हूँ ।
झूठ नहीं बोलता,
बस कुछ बातें छुपाता हूँ ।।

Image Credit – Google

Posted in Hindi, Poetry, Religious, story

चीर हरण !!

वर्षो पहले की ये कहानी थी,
सुनी अपनी दादी की जुबानी थी |
हस्तिनापुर का सिंहासन था,
एक अँधा राजा और एक अंधी रानी थी ||

दो पक्षों की ये दुश्मनी पुरानी थी,
दांव पर राजपाठ, रिश्ते और पंचाली थी |
जीत गए सब कौरव,और पांच की नाकामी थी,
पासे के खेल में, मामा की बेईमानी थी ||

इंतकाम की आग थी मन में ,
मायामहल की बेइज़्ज़ती चुकानी थी |
घसीटी गयी रानी सरेआम बाल से,
इस अन्याय पे बंद सबकी वाणी थी ||

पांचाली के हश्र पर, गर्व था कुछ को,
बाकि सबकी आँखे शर्म से झुक जानी थी |
उतार के उनके वस्त्र को सभा में,
कईयों को दिखानी अपनी मर्दानी थी ||

खींच रहा था दुःशासन साड़ी उनकी,
चीख पुकार मचा रही पांचाली थी |
न था कोई भी रोकने वाला अन्याय को,
पूरी सभा के जीवन पर, ये एक बदनामी थी ||

ना उठ रहा था कोई बचाने को ,
पर द्रोपदी को खुद की इज़्ज़त बचानी थी |
देख खुद को बेबस कौरवो के सामने,
बस भगवान से ही पुकार लगनी थी ||

चीर खींच रहा था दुःशासन बेरहमों की तरह,
हे गोविन्द! हे मुरारे! हे कृष्ण, बस यही द्रौपदी की वाणी थी |
थे खुद गोविन्द ऊपर, उन्हें भक्त की लाज बचानी थी,
चमत्कार था उनका, साड़ी बढती जानी थी ||

हर रहा था चीर, सब कौरवो की मनमानी थी,
मौन धृतराष्ट्र, भीष्म, द्रोणाचार्य और गांधारी थी |
बढ़ती गयी साडी और खींचता रहा चीर,
कृपा के पीछे, स्वंय सुदर्शनधारी थे |

सभा में साडी का ढेर लग गया था,
एक अबला नारी को निवस्त्र करने वाला |
मर्द अब चीर खींच-खींच के थक गया था,
देख ये अद्द्भुत दृश्य, कहा कवि ने ||

“अंतहीन है ये साड़ी थी,
बची इज़्ज़त जो प्यारी थी |
सभा में हर ओर बस साड़ी थी
क्या वो साड़ी थी, या फिर रानी थी ||
क्या वो रानी की ही साड़ी थी ,
देख ये चकित सभा सारी थी |
भाई मानी जिसे रानी थी ,
चमत्कारी वो सुदर्शनधारी था ||”

देख खुद हो हारता दुर्योधन ने मुँह खोला,
“महारानी बना के रखूँगा तुझे मैं दासी” |
ये बोल खुद की जंघा पर बैठने को बोला,
सुन ये गदाधारी भीम का खून खौला ||

ऐसे ही हुआ “महाभारत” का आगाज़,
हर एक घर में जो फैला हुआ है आज |
माना की युद्ध नहीं उस जैसा
पर हर एक के मन वही बैर का अंदाज़ ||

Please do share your opinion on this post, which will help me to decide either i have to write more similar type posts or not.

Thank you so much for your time and support 🙂 

 

Posted in Emotions, English, Fiction, story

MAGIC…99 words story

Eyes desperately moving around the keyboard, searching for E for elephant, not just E alone but a button which also carries letters N, T and so on. ‘Here it is’ she said to nobody. A new skype window opened for us and for her a magic happened on the machine. It was not the first time she saw it happening, but every time it felt fascinating, gave her heartbeat a skip. She knew the drill, press the same button again when green light blinks and it blinked. Magic again, her granddaughter appeared there and a drop of tear here.

Posted in English, Fiction, story

I, Spy

And it happened again. ‘Is there someone following me? Spying on me? He knows all that I do and knows every place I go. And if that’s true, what he wants from me? How is he getting all those details which only I should be aware of?’ Rajeev was saying all this to no one in particular, till he realized that he was not even breathing. He let a huge sigh escape all the air which was stuck in his lungs.

Its not even few days he has arrived to the city and now this. He don’t want to bother his father back home. But he has to share this with someone. Someone whom he can trust. He decides he will tell this to Arjun, his roommate. Yes, Arjun might have some solution for it.

‘Arjun, I need to talk to you about something’ He said to Arjun, who was busy texting on his new phone. Arjun stopped and looked up to him, ‘is it something about my underwear left unwashed in the bathroom?’ he asked back thinking of it as a shared apartment tenants related issue.

‘hell no’ Rajeev sat down beside him, ‘why would I even think about your underwear while someone is trying to spy on me or keep an eye on me every time or may be kill me?’

‘Dude, okay cool down, get a hold, here have some water’ Arjun passed him glass of water. Rajeev drank it, knowing that Arjun has already drank from the same glass. ‘Now tell me what the matter is? Someone threatened you? You got into some fight? ‘Girlfriend’s boyfriend?’ Arjun asked and grinned.

Rajeev cursed himself for zeroing in on Arjun. He should have known his roommate better. After all he is famous for taking everything as a joke and never being serious of anything. He kept quiet and let him enjoy his smile.

Arjun realized that Rajeev was really serious about it. He sat back straight and waited for him to speak.

‘Look, I know it all joke for you but for last few days I have been receiving messages from some unknown numbers. Messages which tells me about my location. Messages that tell me what I am doing right now. It has every detail of me, even the amount of money I have.’ Rajeev bit his lips to control himself from relieving too much.

Arjun seemed worried. This was grave situation if true. He thought for few moments and then said, ‘Ok let me see the messages’.

And he showed the message. This time Arjun didn’t smile….he laughed his heart out.

The message:

spy

 

Posted in English, Fiction, story

Father of Nation

They both walked the less traveled road, shoulder to shoulder. They have shared  all their life knowing each other. Both being orphan and with no money, living on their daily wage, someday earning and someday without.

And then one of them saw a picture of father of our nation lying in dust and when he looked closely, it was 500 rupees note, 10 days of no working and no searching for work.

The other one picked it up and smiled, ” I saw it first” he shouted.

Few minutes later he was walking down the road, alone, watching the yellowish green paper with picture of father of nation. Some red drops on his hand didn’t bother him. He was happy now, that he don’t have to sleep hungry for next few days. And his friend, he now never have to sleep hungry. He was already in a permanent sleep.

Posted in Feellings, Hindi, Personal, story

लिखने की ख़्वाहिश

आज फिर मन ने कुछ लिखने की ख्वाहिश जतायी | बस मन की इस इच्छा को पूरा करने के लिए दिल ने विषय (Topic) सोचना प्रारम्भ किया…और इसी के साथ प्रारम्भ हुई लिखने की सबसे बड़ी समस्या की लिखे तो लिखे क्या…….

उदासी लिखे तो लोग देवदास समझ लेते है और कई जवाब देने पड़ते है |

प्यार लिखे तो लोग आशिक़ समझे लेते है और कई नाम लिए जाने लगते है |

समाज पर लिखे तो दिमाग ने कहा की इसपर लिखने की नही कुछ करने की जरुरत है |

देशभक्ति पर भी क्या ही लिखे, उसको तो लोग बस कुछ विशेष दिनों तक ही सीमित रखते है |

इसी सब उलझनों में दिमाग ने इस कशमकश को ही लिखने का फैसला किया | इस तरह दिल को भी अपनी उलझनों से आराम मिल गया और मन की लिखने की ख़्वाहिश भी पूरी हो गयी…..|

Posted in English, story

Life…a journey

 

Journey begins when I boarded the train from the station called “Birth”. There were already some people in the train, who were very happy to see me and noticing my each and every moment. My smile, step, movement, choice and my each and every expression. In short they were monitoring and capturing my every moment of journey as memory. So earlier time of my journey spent in identifying people around me and their relationship with me. In these much journey I was only with people whose priority were my happiness and my safety.

After some time when I started to recognize and understand the things, one of my co-passenger took me with him and asked me to sit on a new compartment called “School”. And yet again there were already some passengers in the compartment, few were elder than me who asked for discipline and learnings all the times from me and other same aged co-passengers. We started to enjoy everything in this journey now. Every sight, scene, people and things happening around me was awesome irrespective of good and bad. Even this part of journey was the best part, without any tension, without any responsibility and without any worries.

Journey continues and I got promoted to other compartment called “College”. But journey become complicated here, because now I can notice there are many College compartment with different facilities, different look and with different comforts. And I noticed my co-passengers were helping me but they can’t take decision for me, so I had to be more decisive and I was the solely responsible for each right and wrong decision. This part was also amazing so many memory, learnings of worlds and life. People started consider your opinion and your decisions. Somehow I adjusted to take decision and completed this part of journey in one of the compartment.

After this part of journey all the known and unknown person present in the journey asked me to get place in the new coach called “Employment”. But the situation in this compartment was bad than the other compartment in which I traveled till now. Worst thing of this compartment was levels, there were many level of seats and upper level can order the lower level person. Also in this compartment, the no of seats were very less and people were more than that and everyone was eager to get a seat and the person who already got the seat was fighting for the upper level seat. Everyone was behaving like robot and following a particular life styles and schedule. People knows only those who was either helping him or they will need help from them, there was no place for the feelings, emotions and sympathy in this compartment. Somehow I managed to get a seat here also and started surviving and after that I realized that this part of journey is not as bad as I was thinking or people were presenting. There were some good parts like you will get money here and the way and perception of people was dealing with you will be change. So this part of journey can change your life style to your image.

And journey keeps going, our co-passengers left at the time they reach their destination and new travelers are still joining our this journey, we meet so many people in this journey, some can stay till the end and some will left according to their convince or destination. Yes this journey will be continue till time we will the reach our destination station “Death”…….

Posted in English, story

6 Words, 1 Story

Every word has its own power and a complete meaning.Generally people use 3 words to express there love. Just utilizing that power of words to frame a complete story, story in 6 words….

  1. ‘He died, helmet safe at home.’
  2. ‘Abortion successful’ she cried, he smiled.’
  3.  ‘He went back, picked the memories’
  4. ‘Contest Started, Entry submitted, I won’
  5. ‘Blood started dripping from abortion report’
  6. ‘Drought everywhere, except flooded eyes’
  7.  ‘Bare foot, enters temple, new shoes’
  8. ‘Drought everywhere, budget passed, nothing changed’
  9. ‘Froze to deathHeadline: Blanket Distributed’
  10. ‘I am hungry, any work here?’
Posted in Emotions, Fiction, Hindi, story

परिवर्तन !!

बात आज से कुछ तीन दशक पहले की है, घर में उस दिन ख़ुशी और भय दोनों का माहौल था | ख़ुशी थी की आज ठाकुर साहब की बहु माँ बनने वाली थी और भय इस बात का की क्या ठाकुर साहब आने वाले बच्चे को अपना पाएंगे या नहीं…

ठाकुर जी !!!  ठाकुर गांव के बहुत ही इज़्ज़तदार और ताकतवर या यूँ कहे की गांव के बाहुबली हुआ करते थे | यहाँ कोई भी काम बिना उनके सहमति के नहीं होता था | ठाकुर का एकलौता बेटा भैरव आज से करीब छह महीने पहले एक कार दुर्घटना में मारा गया और अपनी पत्नी को बेसहारा इस बेरहम दुनिया में अकेला छोड़ गया | उस कार दुर्घटना के लिए भी खुद उसकी पत्नी को अशुभ और उसके घर में पड़े कदमो को ही श्रापित ठहराया गया |

भैरव की पत्नी जो की भैरव के मौत के बाद ठाकुर की बहु बन कर रह गयी (जी हाँ, उस समय एक लड़की की खुद की कोई पहचान नहीं हुआ करती थी, उसकी पहचान उसके पिता या उसके पति के नाम से ही हुआ करती थी) |

 

“इस दुनिया में मैं अंजान थी, पति की ही पहचान थी |

न था मेरा कोई भी दोष, फिर भी मैं ही बदनाम थी ||”

 

अब वो अपने जिंदगी का हर एक पल अपने आने वाले बच्चे के इंतज़ार में गुजार रही थी, यही आने वाला बच्चा ही उसके जीने का सहारा था नहीं तो अपने पति के मौत के बाद ही वो ज़हर खाकर खुद की जान देना चाहती थी | अब जब आज वो दिन आ ही गया था तो लोगो को अंदर ही अंदर इस बात का भी भय था की कहीं अगर उसे बेटी पैदा हुई तो ठाकुर उसकी बेटी को मार देगा | वहीँ दूसरी तरफ ठाकुर की बहु कुछ दिन पहले ठाकुर साहब की कही बात से अपने बच्चे की सुरक्षा के लिए निश्चिंत थी की किस प्रकार वो आने वाले बच्चे को ले कर उत्सुक थे, “बेटी हो या बेटा हम उसे कुछ नहीं होने देंगे, वो हमारे भैरव का खून होगा,हमारा अपना भैरव” |

 

“आने पर उसके दुनिया में, जस्न गांव में कई जून होगा |

चाहे बेटा हो या बेटी हो, वो मेरा अपना ही खून होगा ||”

 

आखिर वो पल भी आ ही गया जब घर में बच्चे की किलकारियां गूंजी, अंदर कमरे से एक बहुत ही बुजुर्ग महिला निकली और बहुत धीरे आवाज में कहा, ” बेटी हुई है ” | यह सुन कर ठाकुर का चेहरा थोड़ा उतर गया पर ठाकुर ने खुद को सँभालते हुए बहुत ही सख्त आवाज में कहा, ” क्या हुआ बेटी हुई, इसके पैदा होने की ख़ुशी में हम पूरे गांव के साथ कल मंदिर में जश्न मनाएंगे | जश्न की तैयारी शुरू की जाये!!” |

 

“बेटी हो या बेटा हो, ये फर्क अब हम मिटायेंगे |

घर आयी मेरे लक्ष्मी है, खूब जश्न हम मनाएंगे ||”

 

अगले सुबह पुरे मंदिर को बहुत ही खूबसूरत तरीके से सजाया गया और शुरू हो गई जश्न की तैयारियां, पूरा गांव जोरशोर से तैयारियों में लगा था | ठीक सुबह १० बजे ठाकुर साहब हाथो में लाल कपडे में लपेटी हुई  सुन्दर सी बच्ची लिए अपनी बहु और अपने कुछ आदमियों के साथ मंदिर में प्रवेश करते है और पुजारी बच्ची की प्रशंसा करते हुए उसे लम्बी उम्र का आशीर्वाद देते है | बच्ची की माँ और पूरा गांव ये देख कर बहुत प्रश्न थे की, किस तरह उस बच्ची की वजह से ठाकुर का मन परिवर्तित हो गया था, किस तरह बेटे और बेटी में इतना फर्क करने वाला ठाकुर आज एक बच्ची को इतना प्यार कर रहा था |

 

“आ कर इस बच्ची ने,पत्थर दिल को भी पिघला दिया |

इस अंधविश्वासी लोगो में, एक नयी सोच जगा दिया ||”

 

आशीर्वाद लेने के बाद ठाकुर बच्ची के साथ ही तैयारियों का जायजा लेने निकल पड़े | कहीं सब्जियां काटी जा रही थी, कहीं चपाती के लिए आंटा, कहीं खीर क लिए दूध उबाला जा रहा था | ठाकुर बच्ची को हाथ में इतने हिफाज़त से लिया था की जैसे वो उस एक दिन की बच्ची में अपने मर चुके हुए बेटे को खोज रहा था, खोज रहा था अपने वंश को, अपने बुढ़ापे के सहारे को | ठाकुर उस बच्ची को इतने प्यार से देख रहा था जैसे उसका जन्मों का प्यार आज उमड़ आया है |

ठाकुर यूँही उस बच्ची के प्यार में डूबे हुए घूमते घूमते सब देख रहे थे पर अचानक न जाने क्या सोच के ठाकुर ने उस छोटी सी मासूम सी बच्ची को उसी उबलते दूध में फेंक दिया, सब कुछ इतना अचानक हुआ की कोई कुछ समझ नहीं पाया और उबलते हुए दूध में उस एक दिन की बेटी ने बिना रोये या आवाज किये ही अपना दम तोड़ दिया |

ठाकुर अपनी बहु की तरफ घूम के जोर से चिल्लाया, ” ये ही श्रापित है मेरे घर के लिए, पहले मेरे बेटे को खा गयी, पर अब जन्म भी दिया तो बेटी……….”

 

मार कर बेटी छोटी सी, कर ताकत का अभिमान नहीं |

ना होगा खुशिया वहां कभी, जहाँ नारी का सम्मान नहीं ||

 

और इसी के साथ पूरे जश्न के माहौल में एक सन्नाटा फ़ैल गया………!!!