Posted in Emotions, Hindi, Love, Poetry, Sad

तड़प !!

तरस गयी हूँ, घूमने के लिए,
बारिश में भीगने के लिए |

एक चाय का प्याला पीने के लिए,
कुछ पल उनके साथ जीने के लिए ||

उनकी आँखो में खोने के लिए,
कंधे पर सिर रख रोने के लिए |

तरस गए हम वक़्त पाने के लिए,
उनके मन के ज़ज्बात जानने के लिए ||

तरस गए है, उनसे प्यार जताने के लिए,
वो मेरे है, इस ख़ुशी पर इतराने के लिए |

प्यार के एहसास महसूस करने के लिए,
छोटी-छोटी बातों पर मोहब्बत से लड़ने के लिए ||

प्यार से उनको कुछ खत लिखने के लिए,
खत पढ़ कर,उनके अल्फ़ाज़ सुनाने के लिए |

पर उनके पास मेरे लिए वक़्त कहाँ है,
खुश है वहीं, वो अब जहाँ है ||

उसके लिए भी तो बादल बरसता होगा,
भीगने के लिए वो भी तरसता होगा ||

उसे भी तो कुछ बताना होगा ना,
शायद मुझसे प्यार जाताना होगा ना |

हकीकत ना सही ये सब,
सपने पुरे ख्वाब में करेंगे|
मिलने दो कभी,
हर एक तड़प हिसाब में करेंगे ||

Idea Credit & Original poem – “RITIKA”.  Modified by – “ROHIT”

Posted in Emotions, Fiction, Hindi, Poetry, Sad, social

कुर्बान !!

फूल और हवा का,
ये किस्सा पुराना है |
न है मोहब्बत फूल को,
पर हवा को, फूल पाना है ||

इस दुनिया में ऐसा,
और भी कई अफसाना है |
अपनी ताकत की तैश में लोगो को,
एक तरफ़ा मोहब्बत को पाना है ||

पहले तो उन्हें अपना,
प्यार दिखाना है |
मना करने पर,
उन्हें और डराना है ||

कहने को तो मोहब्बत सा पाक,
कहते है खुद को |
पर न हासिल होने पर,
तेजाब से चेहरा जलाना है ||

एक दिन इसी तैश में,
हवा ने फूल को पाना चाहा |
न करने पर फूल को,
उसने डरना चाहा ||

खुद क गुरुर में,
हवा ने फूल से कहा,
मैं झोंका हूँ हवा का,
तुझे मैं जबरदस्ती उड़ा ले जायूँगा |

टूट कर अपनी डाल से
फूल ने जवाब दिया,
मर जाउंगी, पर तेरी न हो पाऊँगी
ख़ाक हो कर भी, खुशबू फैला जाउंगी ||

माना की नाज़ुक हूँ,
पर तुझसे न डर जाउंगी |
तू जी लेना किस्से बहादुरी के ले कर,
मैं तो लड़की हूँ, मैं ही मर जाउंगी ||

Posted in Emotions, Hindi, Love, Personal, Poetry

Love & Pen…

जब तक मृग जैसे नैन तेरे,
और गर्दन तेरी सुराही है |
तब तक हम लिखेंगे ||

जब तक मैं हूँ साथ तेरे,
और तू मेरी हमराही है |
तब तक हम लिखेंगे ||

जब तक तू है किताब मेरी,
और तेरी आँखें मेरी पढाई है |
तब तक हम लिखेंगे ||

जब तक दिल में है प्यार मेरे,
और कलम में स्याही है |
तब तक हम लिखेंगे ||

Posted in Emotions, Hindi, Love, Poetry

इश्क़ !!

बता दे पता अपनी गली का
बिन देखे तुझे,अब गुजारा नहीं होता

खोया रहता हूँ दिन-ओ-रात तुझमे
होश हमें अब, हमारा नहीं होता

जानता हूँ, तेरा देख कर मुस्कुराना
इश्क़ का इशारा नहीं होता

जो समझ जाता दिल ये बात तो
मैं आशिक़ तुम्हारा नहीं होता

बता दे पता अपनी गली का
बिन देखे तुझे,अब गुजारा नहीं होता

जो होती खबर, तेरी दर की तो
शहरो में, मैं आवारा नहीं होता

होता पानी फिर भी नैन में,
पर दुःख से, वो खारा नहीं होता

तेरी एक झलक मिल जाती तो
इश्क़ में, दिल बेसहारा नहीं होता

बता दे पता अपनी गली का
बिन देखे तुझे,अब गुजारा नहीं होता

Posted in Emotions, Fiction, Hindi, Love, Poetry

Happiness

Happiness is :

खूबसूरत रात
तेरा साथ
ढेर-सारी बात
मिलते ख़्यालात
उमड़ते जज्बात

Hope is :

नयी जिंदगी के सपने
तुझे पसंद करते मेरे अपने
रोज़ तुझमे खो जाना
तेरा हमेशा के लिए मेरा हो जाना

Posted in Emotions, Hindi, Love, Poetry, Sad

अजीब दास्ताँ !!

अजीब दास्ताँ है,
पुरानी तश्वीरो की |
इनको देख भी नहीं सकता,
इनको फेंक भी नहीं सकता ||

अजीब किस्से है,
पुरानी यादो के |
जिन्हे सहेज भी नहीं सकता,
और परहेज़ भी नहीं कर सकता ||

अजीब सुरूर है,
पुराने सपनो का |
उनमे रह भी नहीं सकता,
किसी से कह भी नहीं सकता ||